Hinglaj.com Brahmkshatriya E-Magazine

Shree Krishna 0

Bhagvad Chintan-04

आज संसार में बुद्धि की कहीं कमीं नहीं है पर शुद्धि की बहुत कमीं है।...

Shree Krishna 0

Bhagvad Chintan-03

भक्ति भय से नहीं श्रद्धा और प्रेम से होती है।

Morning Prayer 0

Shivaji ke 108 naam

भगवान शिव के नाम…1″शिव शंकर, 2″भोले नाथ,
3″नील कंठ, 4″महारुद्र, 5″मृत्युंजय

Subhashit 0

Subhashit-0041

मृगाः मृगैः संगमुपव्रजन्ति गावश्च गोभिस्तुरंगास्तुरंगैः।
मूर्खाश्च मूर्खैः

Subhashit 0

Subhashit-0040

शतेषु जायते शूरः सहस्त्रेषु च पण्डितः।
वक्ता दशसहस्त्रेष दाता भवति वान वा॥

Subhashit 0

Subhashit-0039

अन्नदानं परं दानं विद्यादानमतः परम्।
अन्नेन क्षणिका तृप्तिः यावज्जीवं च विद्यया॥

Subhashit 0

Subhashit-0038

मूर्खस्य पंच चिह्नानि गर्वो दुर्वचनं तथा।
क्रोधस्य दृढ़वादश्च परवाक्येषवनादरः॥

Subhashit 0

Subhashit-0037

नमन्ति फलिनो वृक्षाः नमन्ति गुणिनो जनाः।
शुष्ककाष्ठश्च मूर्खश्च न नमन्ति कदाचन॥