Category: श्लोक

Sanskrutam

महाभारत एकश्लोकी

एकश्लोकिमहाभारतम् आदौ पाण्डवधार्तराष्ट्रजननं लाक्षागृहे दाहनंद्यूते श्रीहरणं वने विहरणं मत्स्यालये वर्धनम् । लीलागोग्रहणं रणे वितरणं सन्धिक्रियाजृम्भणंभीष्मद्रोणसुयोधनादिमथनं एतन्महाभारतम् ॥

Shlok Mantra

गायत्री मंत्र का सरल अर्थ

गायत्री मंत्र में तीन पहलूओं क वर्णं है – स्त्रोत, ध्यान और प्रार्थना। गायत्री देवी, वह जो पंचमुख़ी है, हमारी पांच इंद्रियों और प्राणों की देवी मानी जाती है । गायत्री मंत्र (वेद ग्रंथ...