आज का सुविचार

दोस्ती काँच के एक बर्तन की तरह है,
यदि एक बार वह टूट जाये तो
दोबारा उसे औने मूल रूप
में लाना बहोत-बहोत मुश्किल होता है।

— दोस्ती

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

2 × = 8