नवदुर्गा चतुर्थ स्वरूप माता कूष्मांडा

माता दुर्गा के नव स्वरूप

Dharma Darshan

शारदीय नवरात्र का आज से शुभारंभ हो गया है। आज से नौ दिन तक मां शक्ति के स्वरूपों की आराधना की जाएगी

माता दुर्गा की चतुर्थ शक्ति है “माता कूष्मांडा” |

वन्दे वाञ्छितलाभाय चन्द्रार्धकृतशेखराम्।
वृषारुढां शूलधरां शैलपुत्रीं यशस्विनीम्॥

माता कूष्मांडा का उपासना मंत्र
Navaratri Devi Kushmanda

नवरात्र पूजन के चोथे दिन कूष्मांडा देवी के स्वरूप की ही उपासना की जाती है त्रिवीध ताप युक्त संसार इनके उदर मे स्थित है, इसलिए ये भगवती “कूष्मांडा” कहलाती है |

ईषत हँसने से अंड को अर्थात ब्रामंड को जो पैदा करती है , वही शक्ति कूष्मांडा है| जब सृष्टि का अस्तित्व नही था, तब इन्ही देवी ने ब्रह्मांड की रचना की थी |

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

fifty two − = forty two