बुध

Vaidik Jyotish

बुध – Mercury (Rajsik, earthy, shudra)

मित्रसूर्य, शुक्र
शत्रुचंद्रमा
सममंगल, गुरु, शनि
अधिपतिमिथुन, कन्या
मूलत्रिकोणकन्या 15° – 20°
उच्चकन्या 15°
नीचमीन 15°
कला/किरण8/10
लिंगपुलिंग नपुंसक।
दिशाउत्तर।
शुभ रंगभूरा, हरा, रंगीन।
शुभ रत्नपन्ना, सुलेमानी (5 कैरेट शुद्ध चांदी में, दाएं हाथ की दूसरी या चौथी उंगली में)।
शुभ संख्या 5, 14, 23.
देवताविष्णु, नारायण।

बीज मंत्र :

ऊँ भ्राम् भ्रीम् भौम् से बुधाए नम:। (21 दिन में 19000 बार)।

वैदिक मंत्र :

प्रियंगुकलिकाश्यामं रूपेणाप्रतिमं बुधम्। सौम्यम् सौम्यगुणोपेतं तं बुधं प्रणामाम्यहम्।।

दान योग्य वस्तुएं :

चीनी, मूंग, तारपीन का तेल, हरा कपड़ा, हरा फूल, हांथी दंत, कपूर (बुधवार के दिन सूर्यास्त से दो घंटे पहले)।

स्वरूप :

विनम्र वक्ता, पित्त ग्रस्त, सुगठित व विशाल शरीर, बुद्धि व हास्य की ओर झुकाव, वातरोगग्रस्त।

त्रिदोष व शरीर के अंग :

त्वचा, जांघ, कफ, वात, पित्त, गुदा, तंत्रिका तंत्र।

रोग :

मानसिक रोग, टायफायड, ज्वर, मस्तिष्क एवं मुखर अंगों के विकार, बवासीर, गर्दन संबंधी रोग, खसरा, यकृत, तंत्रिका अवसाद, सिर चकराना, पेट, आँख, गला व नाक के विकार, सफेद कोढ़, हड्डी टूटना, बदहजमी, हकलाना, अत्यधिक पसीना आना, विषाक्तता, फोड़ा, आंत संबंधी समस्याएं, नपुंसकता।

प्रतिनिधित्व :

भाषण, बुद्धि, तक्र, धातु मूल जीव का मिश्रण।

विशिष्ट गुण :

बन्धु कारक, विद्या कारक, जनन कारक।

कारक :

मित्र, मामा -मामी, मौसा -मौसी, दत्तक पुत्र, भतीजा/भांजा, बड़ा सहोदर भाई/बहन, बुद्धिमता, शिक्षण, शिक्षा, वेद, पुराण, व्यवसाय, व्यापार, गणित, लेखाशास्त्र, वैज्ञानिक अध्ययन, काला – जादू, क्लर्क, मोती, हांस्य, सुगंध, फूल, भाषण, मुद्रक, प्रकाशक, कस्तूरी, भेंगी आँख, वाक्पटुता, निपुणता।

व्यवसाय व जीविका :

मुनीम, चार्टर्ड अकाउंटेंट, व्यवसाय, जौहरी/मणि ढउंपसजवरूजौहरी/मणिझ परीक्षक, विज्ञापक, पुस्तकालय, अखबार, प्रकाशक, लेखन -सामग्री, पुस्तक विक्रेता, प्रतिलिपिकार, लेखक, साहित्यकार, शिक्षाशास्त्री, शिक्षक, ज्योतिषी, लेखा परीक्षक, डाकिया, पत्रकारिता, चिकित्सक, गणितज्ञ, च्-ज् विभाग, सलाहकार, शिल्प, कानून, व्यापार, परिवहन, यात्री, वाहन चालक क्लर्क, मध्यस्थ/पंच। बृहस्पति (सात्विक, प्रज्वलित, शुभ)

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

thirty five − = twenty five